बुधवार, 10 सितंबर 2014

चिंतन ...

तुम अगर खुले मन से किसी की प्रशंसा नहीं कर सकते,
तो कोई तुम्‍हारी कितनी भी प्रशंसा कर ले - तुम उस योग्‍य नहीं.

- रश्मि प्रभा 

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर ...
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरती से लिखा शब्द
    inspiring words....
    Shop

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...